अंडरस्टैंडिंग मोदिनोमिक्स…(पार्ट 2)

गतांक से आगे

पिछले अंक में हमने देखा कि किस प्रकार से सन 1200 से ले कर आज़ादी तक भारत की अर्थव्यवस्था विभिन्न स्तरों से गुज़री. आइए, अब हम इसकी पड़ताल करते हैं कि आज़ादी के बाद भारत की अर्थव्यवस्था ने कैसा प्रदर्शन किया है.

1950 के दशक में महंगाई बढ़ती जा रहीं थी. उस दशक में रुपये को ‘डीवैल्यू’ करना एक राजनैतिक आत्महत्या माना जाता था. उस समय की बड़ी दिक्कत यह थी कि दुनिया की बदलती हुई आर्थिक स्थिति ने भारत को एक असमंजस की स्थिति में डाल दिया था. आयात सस्ता था पर निर्यात महंगा होता चला गया. तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को इसकी जानकारी थी. यह एक बड़ी माथापच्ची थी कि कैसे आयात को रोका जाए और निर्यात को बढ़ावा दिया जाए.

एकदम से आयात रोक देना तो सम्भव था नहीं. इसके लिए ‘लाइसेंस राज’ की शुरुआत की गई. इसने आयात को न सिर्फ कम किया बल्कि भारत के उद्योग को खड़े होने का थोड़ा समय दिया. इंदिरा गाँधी के सत्ता में आने के बाद की आर्थिक स्थिति में थोड़ा बदलाव आ चुका था. अभी तक भारत में लाइसेंस राज ने अपने पैर पूरी तरह पसार लिए थे. एक इकोसिस्टम बन चुका था जिसमें उद्योग खोलने के लिए राजनैतिक नेताओं की चापलूसी एक आम बात हो चुकी थी. निश्चित रूप से राजनैतिक महत्वकांक्षाएं आर्थिक ज़रूरतों पर भारी पड़ रही थी. इस लाइसेंस राज को जारी रखा गया. इसने भारत की अर्थव्यवस्था को एक नई मुसीबत में डाल दिया.

बदली हुई वैश्विक आर्थिक स्थितियाँ भारत की आर्थिक स्थिति से मेल नहीं खाती थी. समय की माँग थी कि उदारीकरण की नीति को अपनाया जाए. राजनैतिक महत्वकांक्षाओं ने फिर भी लाइसेंसी राज को खत्म करने नहीं दिया. इस कारण भारत से बाहर के लोग भारत में निवेश करने से कतराते रहे क्योंकि यह सीधे सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगवा देता. अंततः चूंकि भारत के ऊपर कर्ज़ का एक बहुत बड़ा बोझ चढ़ चुका था तो नरसिम्हा राव की सरकार के अंदर उदारीकरण को अपनाया गया. यही कारण था कि इसको मजबूरी भी कहा जा सकता है.

विभिन्न रिपोर्ट्स की मानें तो हम पाएंगे कि भारत अगले 25 साल में चीन के मुकाबले 350 मिलियन ज़्यादा लोगों का देश होगा. सीधी सी बात है कि जनसंख्या तो रुकेगी नहीं. इसमें 25 से 65 साल के बीच के लोग ज़्यादा होंगे. वहीं जनसंख्या के हिसाब से देखें तो चीन की जनसंख्या में 100 मिलियन लोगों की कमी आएगी. विश्व बैंक के अनुसार 2025 तक हम दुनिया की सबसे बड़ी आबादी होंगे. 2030 तक भारत दुनिया का सबसे बड़ा वर्कफोर्स होगा.

एक देश को बढ़ाने के लिए पूरी आबादी का कार्यरत होना आवश्यक होता है. भारत में पुरुष आबादी की बात करें तो पूरी आबादी में 25 से 65 साल के बीच की आबादी का 90% किसी न किसी उत्पादन के क्षेत्र में लगा हुआ है. परंतु महिलाओं में इसकी स्थिति एकदम उल्टी है. पिछले 10-15 सालों के अंतर को देखें तो हम पाएंगे कि इसी आयु सीमा में महिलाओं की भागीदारी 45% से गिरकर 30% पर आ गयी है. अभी भी यह बहुत धीमी गति से बढ़ते हुए मुश्किल से 33% तक पहुंची है. यानी पूरी जनसंख्या में आधी आबादी तो कामकाजी है लेकिन बाकी आधी आबादी का सिर्फ एक तिहाई हिस्सा ही काम कर रहा है. वहीं इसकी तुलना चीन से करेंगे तो पाएंगे कि उसकी महिला आबादी में यह आंकड़ा दो तिहाई तक पहुंच चुका है. भारत के लिए अच्छी बात यह रहेगी कि बढ़ती हुई आबादी के साथ यह आंकड़े भी बढ़ेंगे.

साक्षरता की बात करें तो भारत की आबादी में बच्चों की साक्षरता दर लगभग 100% है. भारत के नियम के हिसाब से जाएं तो जो बच्चा पढ़ लिख सकता है, वो साक्षर है. यानी हम एक ऐसी पीढ़ी में जा रहे हैं जहां पिछली पीढ़ी से ज़्यादा साक्षरता दर होगी. आपको क्या लगता है कि भारत की विकास यात्रा में सबसे बड़ा रोड़ा क्या होगा? कच्चा तेल. जी हां! भारत अपने यहां उपयोग करने वाला 4/5 भाग कच्चा तेल आयात करता है. लोगों को यह कहना मूर्खता होगी कि आप कार या कोई वाहन मत चलाइये. सोच कर देखिये कि एक विकासशील अर्थव्यवस्था को आप कैसे कह सकते हैं कि वो किसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल न करे. आप डिमांड को रोक नहीं सकते हैं तो आपको दूसरे विकल्पों पर ध्यान देना होगा.

पिछली सरकार के दौरान हम बायो फ्यूल्स और पेट्रोल में इथनोल के मिश्रण की दिशा में बहुत धीमी गति से चल रहे थे, जिसके कारण हम बहुत पिछड़ कर रह गए थे. अब इस सरकार ने इस विषय पर कार्य करते हुए इथनोल के इस्तेमाल को बढ़ा दिया है. वैसे यह योजना अटल बाहरी वाजपेयी की सरकार द्वारा शुरू की गई थी. इससे आयात शुल्क में कमी आयी है. सरकार ने इसका 15% का टारगेट रखा था परंतु अभी भी यह 5% से पीछे हैं.

पिछले 10 साल के बीच में सोलर पावर और बैटरी चलित वाहनों के शुल्क में 5 गुना की कमी आयी है. यह पेट्रोल और डीज़ल के बड़े उपयोग को कम करने का एक तरीका बन सकता है. अब भारत मे सूरज की रोशनी आयात करने की आवश्यकता तो है नहीं. सिर्फ सोलर पावर ही नहीं बल्कि सोलर पावर को इकट्ठा करने वाली बैटरी के दाम में भी कमी आयी है. यह भारत के लिये एक अच्छा अवसर है. प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ने इस ओर काम भी किया है. गुजरात में दुनिया का सबसे बड़ा सोलर पावर प्लांट इसका उदाहरण है. वहीं पिछले दिनों फ्रांस के साथ प्रधानमंत्री मोदी का सोलर अलायन्स भी एक ऐतिहासिक कदम है. ‘नॉन रिन्यूएबल एनर्जी’ की दिशा में यह मील का पत्थर साबित होगा.

यहाँ से शुरू होती मोदीनॉमिक्स की नींव. 2014 के बाद से जिस ‘कड़वी दवाई’ का इस्तेमाल मोदी ने देश की अर्तव्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए किया है, उसके दूरगामी परिणाम होने वाले हैं. अगले अंक में इसकी विवेचना जारी रहेगी.

क्रमश: …

Ideas. India. Investing

30 Comments

  1. April 1, 2019 - 2:46 pm

    925761 735759Average In turn sends provides will be the frequent systems that give the opportunity for ones how does a person pick-up biological, overdue drivers, what 1 mechanically increases the business. Search Engine Marketing 549847

  2. April 1, 2019 - 6:22 pm

    55344 621228Somebody necessarily assist to make seriously articles I might state. That is the quite first time I frequented your internet page and to this point? I surprised with the research you produced to make this actual put up incredible. Amazing task! 410243

  3. April 2, 2019 - 1:00 am

    825251 208735I feel your suggestion would be valuable for me. I will let you know if its function for me too. Thank you for sharing this beautiful articles. thanks a great deal 251120

  4. April 2, 2019 - 3:38 am

    137530 16813I agree completely with what you said. Wonderful Stuff. Keep it going.. 370510

  5. April 3, 2019 - 7:26 am

    832773 928645Some really nice and utilitarian information on this internet web site , also I believe the style and style holds very good functions. 965097

  6. April 5, 2019 - 1:33 pm

    576757 111260Yay google is my world beater helped me to uncover this excellent web site ! . 582877

  7. April 5, 2019 - 5:17 pm

    212472 838675I got what you intend, saved to fav, quite nice site . 367338

  8. April 6, 2019 - 10:28 am

    333817 661416This is some fantastic details. I expect additional facts like this was distributed across the web today. 639132

  9. April 6, 2019 - 6:07 pm

    561742 527404Thank you for your fantastic post! It has long been very useful. I hope which you will proceed sharing your wisdom with us. 470411

  10. April 7, 2019 - 3:30 am

    18500 358971Having read this I thought it was quite informative. I appreciate you taking the time and effort to put this article together. I once again discover myself spending way to a lot time both reading and commenting. But so what, it was still worth it! 610468

  11. April 7, 2019 - 3:18 pm

    37598 935691I believe this internet site has got some really superb information for everybody : D. 818475

  12. April 9, 2019 - 7:23 am

    773868 602335Outstanding post, I conceive men and women ought to larn a lot from this weblog its really user friendly . 369805

  13. April 11, 2019 - 1:27 pm

    146976 629033Youre the best, Its posts like this that keep me coming back and checking this web site regularly, thanks for the info! 511657

  14. April 11, 2019 - 7:01 pm

    488097 947739Gratitude for building this send! I in reality realize the no cost information. 666590

  15. April 12, 2019 - 12:25 am

    464212 223008I do not have a bank account how can I place the order? 177658

  16. April 12, 2019 - 1:49 am

    657075 880513Hey I was just seeking at your site in Firefox and the image at the top with the link cant show up properly. Just thought I would let you know. 87479

  17. April 12, 2019 - 3:49 am

    451181 169455This is a terrific internet site, could you be interested in performing an interview about just how you developed it? If so e-mail me! 675621

  18. April 15, 2019 - 1:54 am

    19197 644698Yeah bookmaking this wasnt a risky decision outstanding post! . 211347

  19. April 15, 2019 - 3:31 pm

    124780 147556So funcy to see the post within this weblog. Thank you for posting it 855187

  20. April 16, 2019 - 11:05 pm

    812353 748819I surely didnt know that. Learnt 1 thing new these days! Thanks for that. 173920

  21. April 19, 2019 - 12:33 am

    109378 958915Oh my goodness! a amazing post dude. Thanks a whole lot Nevertheless I is going to be experiencing trouble with ur rss . Dont know why Not able to sign up for it. Is there every person acquiring identical rss problem? Anybody who knows kindly respond. Thnkx 819593

  22. April 19, 2019 - 11:33 am

    560137 173871hi, your website is wonderful. I truly do numerous thanks for operate 808818

  23. April 20, 2019 - 4:56 am

    540186 408271Thank you for the auspicious writeup. It in truth used to be a amusement account it. Glance complex to far more added agreeable from you! Even so, how could we be in contact? 265119

  24. April 20, 2019 - 4:57 am

    411428 334042Im glad I identified your post. I would never have created sense of this subject on my own. Ive read several other articles on this topic, but I was confused until I read yours. 757898

  25. April 20, 2019 - 4:30 pm

    525038 258512I really prize your piece of work, Excellent post. 349847

  26. April 21, 2019 - 10:55 am

    8345 564501Hey, are you having issues with your hosting? I necessary to refresh the page about million times to get the page to load. Just saying 77439

  27. April 21, 2019 - 3:04 pm

    946882 130240I enjoy your composing design, do carry on creating! I will probably be back! 775523

  28. April 21, 2019 - 11:35 pm

    790930 931580In todays news reporting clever journalists function their own slant into a story. Bloggers use it promote their works and several just use it for fun or to stay in touch with pals far away. 238521

Comments are closed.