केरल सरकार सबरीमाला को खंडित करने पर आमादा

जब आपके अपने घर में आग लगी हो तब आप पहले अपने घर की आग बुझाएंगे न कि दूसरे के घरों को बचाएंगे. पर ऐसा ही कुछ केरल में देखने को मिल रहा है. सबरीमाला के अय्यप्पा मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर कई महीनों से घमासान छिड़ा हुआ है जहाँ कई हिन्दू महिलाएं मंदिर में प्रवेश के लिए प्रतीक्षा करने को तैयार हैं. वहीं केरल की सरकार अपने ख़ज़ाने से सबरीमाला की सदियों से चली आ रही परम्परा को खंडित करने को आमादा है. इस विरोध में विडंबनाओं की सूची ही खत्म नहीं होती.

केरल में आई बाढ़ से हुई तबाही से अभी भी केरल उबर नहीं पाया है. अर्थव्यवस्था तहस नहस हो चुकी है. वो अलग बात है कि बाद में केंद्र सरकार पर मदद न करने का ठीकरा फोड़ा जा सकता है. केंद्र सरकार को विलन बना कर वोट मांगे जा सकते हैं. केरल भले ही देश के सबसे साक्षर राज्य हो पर यहाँ रोज़गार की कमी है. युवा इसीलिए गल्फ देशों में पलायन कर रहे हैं. अर्थव्यवस्था गल्फ के रिवर्स फ्लो से भी बिगड़ रही है.

लेकिन इन सब के अलावा सबसे बड़ी विडंबना यह है कि केरल सरकार द्वारा प्रायोजित इस विरोध प्रदर्शन में जो महिलाएं शामिल हैं वो बुरखे में लिपटी मुस्लिम महिलाएं हैं और ईसाई नन हैं जो अपना हर कार्य चर्च के नियमों के मुताबिक करती हैं. ये महिलाएं अपने खिलाफ हो रहे शोषण के खिलाफ शायद कभी आवाज़ भी न उठा पाएं. चाहे ट्रिपल तलाक हो या नन्स का पादरियों द्वारा शारीरिक हनन आपको ये महिलाएं कभी भी इन सब के खिलाफ आवाज़ उठाते नहीं दिखेंगी. इन सब के बीच फेमिनिस्टों ने भी अपने असलीे रंग  दिखाएं हैं, एक बलात्कार की मारी नन और ट्रिपल तलाक की मारी मुस्लिम बहन के लिए जिनके मुंह से चूं तक नहीं निकली, वे मंदिर में प्रवेश के लिए दिन दोगुनी रात चौगुनी मेहनत कर रही हैं. जिन्हें मूर्ति पूजा वर्जित है आखिर क्यों वो एक मंदिर में Woman rights की आड़ में घुसना चाहती हैं.

जो महिलाएं एक पादरी द्वारा चरित्र हनन किये जाने पर एक शब्द नहीं बोल पाई आखिर क्यों वो मंदिर में प्रवेश करना चाहती हैं? और सबसे हैरानी की बात यह है कि इन सब का खर्चा सरकार उठा रही है. ऐसे तो कामरेड नास्तिक होते हैं, फिर इन्हें दूसरों के मंदिर जाने या न जाने की चिंता क्यों सता रही है? आखिर क्यों ये महिलाओं के मस्जिद जाने, पर्दा प्रथा और नन्स के चर्च प्रमुख बनने की मांग नहीं करते?

कम्युनिस्टों को किसी के हक की चिंता नहीं है, वो बस ये चाहते हैं कि हिंदुओं को नीचा दिखाया जाए, उन्हें रूढ़िवादी करार् दिया जाए और यह भ्रम फैलाया जाए कि हिन्दू महिलाओं को समानता का दर्जा नहीं देते. उनका मकसद केवल हमारे प्राचीन मंदिरों और परम्पराओं को तोड़ना है. उनका मकसद मंदिरों में कैरल्स और ज्ञानवापी मस्जिदें बनवाना है.

.

Image credit

10 Comments

  1. April 13, 2019 - 6:41 pm

    901899 456875Companion, this internet website is going to be fabolous, i merely like it 928475

  2. April 14, 2019 - 11:56 pm

    316112 769968But a smiling visitant here to share the love (:, btw fantastic style and design . 86905

  3. April 15, 2019 - 1:12 am

    75208 293201Hello. Cool post. Theres an issue with the internet site in internet explorer, and you might want to test this The browser could be the marketplace chief and a large element of other folks will miss your fantastic writing due to this difficulty. 755982

  4. April 16, 2019 - 11:22 pm

    537972 323059You got a quite very good site, Gladiola I discovered it by way of yahoo. 217514

  5. April 17, 2019 - 10:37 pm

    545153 234548Really nicely written story. It will probably be valuable to anyone who usess it, including yours truly . Maintain up the good work – canr wait to read more posts. 72534

  6. April 18, 2019 - 11:12 pm

    41736 508244I just added this webpage to my feed reader, wonderful stuff. Cannot get enough! 940993

  7. April 19, 2019 - 1:05 am

    358512 713933bathroom towels really should be maintained with a great fabric conditioner so that they will last longer:: 632006

  8. April 19, 2019 - 1:42 am

    735795 973836Spot on with this write-up, I truly assume this internet site wants a lot a lot more consideration. probably be once more to read a lot far more, thanks for that information. 28791

  9. April 19, 2019 - 11:33 am

    600725 997235Wow you hit it on the dot we shall submit to Plurk in addition to Squidoo nicely done انواع محركات الطائرات | هندسة نت was fantastic 898102

  10. April 21, 2019 - 11:07 pm

    837805 581791We dont trust this incredible submit. Nevertheless, I saw it gazed for Digg along with Ive determined you can be appropriate so i ended up being imagining within the completely wrong way. Persist with writing top quality stuff along these lines. 737841

Comments are closed.